चंपावत में आयोजित हुआ एनयूजे का प्रदेश स्तरीय ‘मीडिया संवाद’, पत्रकारों के हित से जुड़े मामलों पर हुई चर्चा

ख़बर शेयर करें -

त्रिलोक चन्द्र भट्ट

चंपावत। पत्रकारों के हित और कल्याण के लिए दूरदर्शिता के साथ हमेशा अपनी विशिष्ट अभिदृष्टि के साथ कार्य करने वाली उत्तराखण्ड की प्रमुख राज्यस्तरीय पत्रकार यूनियन ‘नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स ने सरकार की मीडिया पालिसी और पत्रकारों को उनके अधिकारों के लिए जागरूक करने के उद्धेश्य से चंपावत में प्रदेश स्तरीय ‘मीडिया संवाद-2024’ की शुरूआत की।


नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (एनयूजे उत्तरखण्ड) के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट्ट की पहल पर 17-18 मई को आरंभ हुए मीडिया संवाद में मौजूदा और प्रस्तावित विभिन्न नियमावलियों की खामियों, उनमें सुधार व संशोधन जैसे मुद्दों पर मीडियाकर्मियों ने संगोष्ठी में मौजूद लोगों का ध्यानाकर्षण किया। पत्रकारों की जागरूकता के लिये आरंभ किये गये मीडिया संवाद-2024 के पहले चरण में पत्रकारों के हित और कल्याण से जुड़े मामलों में असमान व्यवहार, भेदभाव और प्रशासनिक कार्यप्रणाली की विफलताए और अधिकारियों द्वारा पत्रकारों के प्रति घोर उदासीनता बरतने के मामले उठाते हुए इन पर चिन्ता व्यक्त की गयी। बावजूद इसके सूचना एवं लोक संपर्क विभाग के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा उत्तराखण्ड में पत्रकारों को दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ उठान की प्रक्रिया जैसी सामान्य जानकारियों के साथ सूचना विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की कार्यसंस्कृति पर भी मीडिया संवाद में खुल कर परिचर्चा हुयी।


पत्रकारों के सवाल-जवाबों के बीच मंच से यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष और अन्य पदाधिकारियों द्वारा चंपावत सहित कुमाऊँ मंडल के विभिन्न जिनपदों से आये पत्रकारों को जहां शासकीय प्रेस मान्यता, पत्रकार कल्याण कोष से गंभीर बिमारी की स्थिति में उपचार और दिवंगत पत्रकार के आश्रितों को आर्थिक सहायता, मुख्यमंत्री पत्रकार पेंशन योजना, चिकित्सा प्रतिपूर्ति, प्रेस टूर आदि के प्रावधानों की जानकारी दी गयी। वहीं सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के ‘प्रेस सेवा पोर्टल’ और ‘केन्द्रीय संचार ब्यूरो’ के पोर्टल पर ऑल लाइन वार्षिक रिटर्न भरने के तौर-तरीके समझाये गये।
मीडिया संवाद में नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स द्वारा लघु, मध्यम और मझौले समाचार पत्र प्रकाशकों की विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए संगठन की हेल्प लाइन का भी जिक्र आया। जिस पर बताया गया कि समाचार पत्र प्रकाशक, मुद्रक, संपादकों को भारत सरकार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा परिचालित समाचार पत्रों के पंजीयन संबंधी प्रेस सेवा पोर्टल में आईडी बनाने और एवं रिटर्न भरने में जो दिक्कतें हो रही हैं, नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (एनयूजे उत्तराखण्ड) उनका मार्गदर्शन, सहायता और निःशुल्क रिटर्न भरने में मदद कर रही है। बताया गया कि हेल्पलाइन में पंकज सिंह बिष्ट, नवीन चन्द्र पाण्डेय और प्रमोद कुमार के फोन नम्बर दिये गये हैं। जिनसे एपांयमेंट लेकर प्रेस सेवा पोर्टल संबधी कार्यों के अलावा केंद्रीय संचार ब्यूरों में विज्ञापन सूचीबद्धता के लिये निःशुल्क, परामर्श, मार्गदर्शन और रिटर्न भरने में मदद जी जा सकती है। इसी तरह सूचना एवं लोक संपर्क विभाग उत्तराखण्ड द्वारा प्रिंट, इलैक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर काम करने वाले को दी जाने वाले सुविधाओं पर प्रकाश डाला गया। कहा कि पत्रकारों की परेशानी का समाधान करना संगठन की प्राथमिकता में है।
संगोष्ठी में जिला पत्रकार संगठन चंपावत के अध्यक्ष चन्द्रबल्लभ ओली, वरि. पत्रकार चन्द्रशेखर जोशी, गणेश दत्त पाण्डेय, दीपक फुलेरा आदि पत्रकारों ने पत्रकारों की विभिन्न समस्याओं को उपस्थित लोगों के समक्ष साझा करते हुए जमीनी स्तर पर कार्य किये जाने की जरूरत बतायी।
संगोष्ठी में नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट्ट, उपाध्यक्ष संदीप पाण्डे, संगठन मंत्री जगदीश उपाध्याय एवं गिरीश सिंह बिष्ट, कार्यकारिणी सदस्य स्वराज पाल सिंह, कुलदीप मटियानी और राजकुमार केसरवानी सहित चंपावत के जिलाध्यक्ष जगदीश चन्द्र राय, नैनीताल की जिलाध्यक्ष दया जोशी, बागेश्वर के जिलाध्यक्ष शंकर पाण्डे, हरिद्वार के निर्वतमान जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पाल, जिला पत्रकार संगठन चंपावत के अध्यक्ष चन्द्रबल्लभ ओली, खटीमा से दीपक फुलेरा, टनकपुर से बाबूलाल यादव, हरिद्वार से भगवती प्रसाद गोयल, चंपावत के वरिष्ठ पत्रकार गणेश दत्त पाण्डे, मनोज कुमार राय, जगदीश चन्द्र उपाध्याय, दिनेश चन्द्र पाण्डेय, जगदीश चन्द्र जोशी, नवल किशोर जोशी, गौरी शंकर पंत, सुरेश चन्द्र जोशी, सुरेश चन्द्र गड़कोटी, सूरज वोहरा, चन्द्रशेखर जोशी, सतीश जोशी ‘सत्तू’, आदि पत्रकार उपस्थित रहे। कार्यक्रम के सफल संचाल जगदीश चन्द्र राय एवं गिरीश सिंह बिष्ट ने किया।

यह भी पढ़ें 👉  डीएम ने किया जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण, दो डॉक्टर मिले गैर हाजिर, सीएमएस को दिए स्पष्टीकरण लेने के निर्देश