कोर्ट में पेशी के बाद पुलिस अभिरक्षा से भागा पॉक्सो एक्ट का आरोपी, दो घंटे में चढ़ा पुलिस के हत्थे

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। कोर्ट में पेशी के दौरान पुलिस अभिरक्षा से भागे हुए पॉक्सों एक्ट से सम्बन्धित अभियुक्त को बागेश्वर पुलिस टीम ने महज दो घंटे के भीतर गिरफ्तार किया।

पॉक्सो अधिनियम के आरोपी दीवान राम पुत्र मदन मोहन निवासी-ग्वालदे राजस्व क्षेत्र नौगांव तहसील गरुड जिला-बागेश्वर को जनवरी 2024 में गिरफ्तार किया गया था, जो इस समय में जिला कारागार अल्मोड़ा में निरुद्व है। आरोपी को आज अल्मोड़ा कारागार से पेशी हेतु माननीय न्यायालय बागेश्वर लाया गया था, जो बागेश्वर कोर्ट परिसर से पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया। पुलिस अभिरक्षा से भागने की सूचना गार्द कमाण्डर द्वारा उच्चाधिकारियों को दी गयी जिस पर अभियुक्त उपरोक्त की तलाश/गिरफ्तारी हेतु पुलिस उपाधीक्षक के पर्यवेक्षण/नेतृत्व में उसकी तलाश/गिरफ्तारी हेतु जनपद के समस्त थानों/चौकियों व कोतवाली बागेश्वर पुलिस, पुलिस लाईन/पुलिस कार्यालय/एस0ओ0जी0 के अधिकारी/कर्मचारीगणों की अलग-अलग टीम गठित कर तत्काल फरार की गिरफ्तारी हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गये।पुलिस टीम ने सघन चैकिंग अभियान चलाते हुए स्थानीय लोगों से पूछताछ की और संदिग्ध स्थानों में तलाश करते हुए आरएफसी गोदाम बागेश्वर के पास से गिरफ्तार किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में जंगलों की आग पर सुप्रीम कोर्ट का सख्त रुख, मुख्य सचिव तलब, फंड और लापरवाही पर घेरा

एसपी अक्षय प्रह्लाद कोंडे ने बताया कि पकड़े जाने के डर से अपनी पहचान छिपाने के लिए अपनी पहनी हुई जैकेट को उतार कर हनुमान मंदिर के पास गली में फैंक दिया था। आरोपी के खिलाफ कोतवाली में धारा-224 भा0द0वि0 बनाम दीवान राम पंजीकृत किया गया। गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में संजय बृजवाल कोतवाली बागेश्वर,नीरज वाणी कोतवाली बागेश्वर,नरेन्द्र गोस्वामी कोतवाली बागेश्वर,गिरीश सिंह बजेली कोतवाली बागेश्वर आदि मौजूद थे

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में जंगलों की आग पर सुप्रीम कोर्ट का सख्त रुख, मुख्य सचिव तलब, फंड और लापरवाही पर घेरा