मासिक समीक्षा बैठक में अनुपस्थित रहे अधिकारी, डीएम ने जताई नाराजगी, स्पष्टीकरण मांगा

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। जिलाधिकारी अनुराधा पाल की अध्यक्षता में मंगलवार को राजस्व विभाग समेत अन्य विभागों की मासिक समीक्षा बैठक हुई। जिलाधिकारी ने नियमित पुलिस के अंर्तगत पंजीकृत आईपीसी,एनडीपीएस एक्ट के अलावा विभिन्न धाराओं में दर्ज आपराधिक मामलों की समीक्षा की।

राजस्व वादों औऱ फौजदारी मामलों की समीक्षा की गई, जिसमें लंबित वादों को टाइमलाइन तय कर जल्द निस्तारण करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने वसूली की समीक्षा करते हुए भू- राजस्व और सिंचाई को वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिए। विविध देय की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने तहसील कपकोट में सहकारी बैंक, मोटर देय एवं तहसील गरुड़ में सहकारिता, बैंक देय,खनन देयकों की वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिए तथा रिपोर्ट एक हफ्ते के भीतर उपलब्ध कराने को कहा। जिलाधिकारी ने बड़े बकायदारों से भी वसूली में तेजी लाने के निर्देश देते हुए अमीनो को नोटिस जारी करने को कहा। खनिज अधिकारी मासिक बैठक में उपस्थित नहीं होने पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए स्पष्टीकरण तलब किया है, और उन्हें हफ्ते के तीन दिन सोम,मंगल व बुधवार को जिले में बैठने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने सेवा का अधिकार के तहत नागरिकों को दी जाने वाली सुविधाओं को तय समय के भीतर देने के निर्देश दिए । उन्होंने आबकारी, पूर्ति, खाद्य सुरक्षा, परिवहन व शासन एवं अन्य स्तर से प्राप्त संदर्भो के साथ ही मुख्यमंत्री कार्यालय से संबंधित संदर्भो की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

बैठक में अपर जिलाधिकारी एनएस नबियाल, उपजिलाधिकारी मोनिका, जीतेंद्र वर्मा, पुलिस उपाधीक्षक अंकित कंडारी, अभियोजन अधिकारी शीमा भेतवाल, शासकीय अधिवक्ता जीबी उपाध्यक्ष, बीबी पाठक, पूर्ति अधिकारी मानोज बर्मन, संभागीय परिवहन अधिकारी रत्नाकर सिंह, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी भगत सिंह भौर्याल, रमेश कुमार आर्या, ईओ हयात सिंह परिहार समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Ad Ad Ad