जल जीवन मिशन के कार्यों को फरवरी तक करें पूरा: डीएम, कलेक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक में डीएम ने दिए निर्देश

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने जल जीवन मिशन के कार्यो की समीक्षा करते हुए कहा कि आगामी मार्च में योजना का समय समाप्त होने वाला है। उन्होंने  कार्यदायी संस्थाएं मिशन मोड में कार्य करते हुए योजनाओं को फरवरी माह तक पूरा करने के निर्देश दिए।

कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक लेते हुए जिलाधिकारी ने जल जीवन मिशन के फेज-वन व टू में पूर्ण कार्यो का तुरंत थर्ड पार्टी से निरीक्षण कराते हुए एमबी कर शीघ्र भुगतान कराने के निर्देश अभियंताओं को दिए।

जिले में जल निगम ने जल जीवन मिशन योजना के  140 योजनाओं के सापेक्ष 68 कार्य पूर्ण कर लिए गए है। जल संस्थान द्वारा 168 पेयजल योजना के कार्य किए जा रहे है, जिसमें से 51 कार्य पूर्ण कर लिए गए है। वहीं सिंचाई विभाग द्वारा 112 योजना कार्यो के सापेक्ष 30 कार्य पूर्ण कर लिए गए है। इस तरह जनपद में कुल जल जीवन मिशन के 420 योजना कार्यो में से 149 कार्य पूर्ण किए जा चुके है, जबकि 271 कार्य प्रगति पर है।

यह भी पढ़ें 👉  इंटर में ललित रहे टॉपर, हाईस्कूल में निकिता, अंकित, हर्षित ने किया टॉप

जिलाधिकारी ने जनपद में पर्यटन के साथ ही ईको टूरिज्म पर को बढावा देने के लिए योजनाओं की डीपीआर प्रस्तुत करने के निर्देश प्रभागीय वनाधिकारी व जिला पर्यटन विकास अधिकारी को दिए। उन्होंने लीती, सूपी व सुनारगांव को पर्यटन विलेज के रूप में विकसित करते हुए इन ग्रामों से लगे ट्रैक रूट, पहुंच पैदल मार्ग, मंदिर, जोगाबाडी गुफा सौन्दर्यकरण व गोगिना वॉटर फॉल व्यू प्वाइंट के साथ ही सरमूल, भद्रतुंगा मंदिर तक लिंक रूट की डीपीआर भी शीघ्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिए, ताकि प्राकृतिक पर्यटन हेतु अधिक से अधिक पर्यटकों की आमद हो सके।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी, प्रभागीय वनाधिकारी उमेश तिवारी, जिला उद्यान अधिकारी आरके सिंह, ईई जल संस्थान सीएस देवडी, जल निगम वीके रवि, सिंचाई जेएस बिष्ट, पीएमजीएसवाई वृजेंद्र कुमार, अमेंद्र रावत, जिला पर्यटन अधिकारी पीके गौतम आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  चंपावत में आयोजित हुआ एनयूजे का प्रदेश स्तरीय ‘मीडिया संवाद’, पत्रकारों के हित से जुड़े मामलों पर हुई चर्चा