चिंताजनक स्थिति पर वन्य जीवों का आदमखोर होना,मवेशियों को चराने जंगल गये बुजुर्ग को तेंदुएं ने बनाया निवाला

ख़बर शेयर करें -

मंगलवार को मवेशियों को चराने के लिए जंगल गए बुजुर्ग घर नहीं लौटे। बुधवार सुबह ढूंढखोज में गांव से करीब आधा किलोमीटर दूर उनका क्षत-विक्षत शव बरामद हो गया।

अल्मोड़ा के द्वाराहाट ब्लॉक के दैना गांव में तेंदुए ने एक वृद्ध को मौत के घाट उतार डाला। बुजुर्ग मंगलवार दोपहर से लापता थे। बुधवार सुबह खोजबीन के दौरान घर के पास जंगल में बुजुर्ग का क्षत-विक्षत शव मिला। मौके पर पहुंचे प्रशासन और वन विभाग के अधिकारियों को ग्रामीणों के गुस्से का सामना करना पड़ा। ग्रामीणों ने पिंजरा लगाने तथा पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा नहीं मिलने तक शव को उठाने नहीं दिया। तीन घंटे की मशक्कत के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए रानीखेत भेजा जा सका।रानीखेत तहसील के दैना गांव निवासी मोहन राम (65) पुत्र स्व. प्रेम राम अपने भतीजे हरीश चंद्र के परिवार के साथ रह रहे थे। वह मेहनत मजदूरी और मवेशी चराने का कार्य करते थे। मंगलवार को मवेशियों को चराने के लिए जंगल गए बुजुर्ग घर नहीं लौटे। बुधवार सुबह ढूंढखोज में गांव से करीब आधा किलोमीटर दूर उनका क्षत-विक्षत शव बरामद हो गया। ग्रामीणों ने कहा कि शव को तेंदुआ आधे से अधिक खा चुका था।

यह भी पढ़ें 👉  ग्राम प्रधानों ने जड़े ब्लॉक कार्यालयों पर ताले, मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

जंगली जानवरों के इस तरह आतंक से जहां जनहानि का नुक़सान हो रहा है वहीं आये दिन हो रही घटनाओं से लोग डरे हुए हैं और समाज में भी इन दिनों लगातार वन्य जीवों के आबादी क्षेत्रों में बड़ रही धमक चिंता का विषय बना हुआ है

Ad Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.