दिनदहाड़े गांव में दिखे तीन गुलदार, आबादी क्षेत्र में गुलदार की धमक से दहशत में ग्रामीण(वीडियो )

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर।जिले में आये दिन जंगली जानवरों का आतंक बड़ता जा रहा है,जंगली जानवर जंगल छोड़ आबादी क्षेत्रों का रूख कर रहे हैं।

बागेश्वर तहसील क्षेत्र के सीमांत क्षेत्र मुस्योली सातचौंरा में तेंदुए की धमक बड़ रही है। ग्रामीणों के अनुसार तेदुंआ लंबे समय से क्षेत्र में डेरा डाले हुआ है। बीते मंगलवार को तीन तेदुंए एक साथ सातचौंरा से मुस्योली जाने वाले मोटरमार्ग पर आ धमके हांलाकि इस दौरान सड़क से कोई वाहन नहीं गुजरे बाद में ग्रामीणों के शोर करने से तेदुंए वहां से हट गए। और एक तेंदुआ पेड़ पर चड़ गया इस दौरान ग्रामीणों ने उनका वीडियो भी बनना डाला वीडियो में दो तेंदूए चहलकदमी करते हुए दिखा रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  लीती, सूपी और सुनारगांव बनेंगे पर्यटन विलेज, जिले में पर्यटन और ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा

वही एक तेंदुआ पेड़ पर चढ़ा हुआ है। ग्रामीण पवन पांडे ने कहा कि गांव में लंबे समय से तेंदुए का आतंक बना हुआ है आए दिन तेंदुआं पालतू जानवरों को निवाला बना रहा है।तेंदुए की बढ़ती धमक से ग्रामीणों में भय का माहौल है। उन्होंने बताया कि इससे पहले भी ग्रामीणों ने जंगली जानवरों के आतंक से निजात दिलाने की मांग को लेकर डीएफओ को ज्ञापन भी दे चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई कारवाई नहीं हुई है।धरमघर वन क्षेत्र के रेंजर प्रदीप कांडपाल ने कहा कि वन विभाग की टीम को गांव भेजा जाएगा। जरुरत पड़ने पर गांव में पिंजरा लगाया जाएगा।