10 नवंबर तक शुरू नहीं हुए जिला योजना के कार्य, तो वापस ले ली जाएगी धनराशि, कारण बताओ नोटिस भी होगा जारी: डीएम

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने जिला योजना, राज्य, केंद्र पोषित व वाह्य सहायतित योजनाओं की प्रगति समीक्षा करते हुए कहा कार्यो में तेजी लाकर योजना धनराशि व्यय करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बीस सूत्रीय कार्यक्रम में बी व सी श्रेणी विभागों को चेतावनी जारी करने के निर्देश मुख्य विकास अधिकारी को दिए।

जिलाधिकारी ने कहा कि जिला योजना की द्वितीय किश्त विभागों को जारी कर दी गयी है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को एक सप्ताह के भीतर कोषागार से योजना धनराशि अवमुक्त कराने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि जो विभाग जिला योजना कार्य 10 नवंबर तक प्रारंभ नहीं करेंगे, उनकी धनराशि वापस ले ली जाएगी साथ ही संबंधित विभाग को कारण बताओं नोटिस भी जारी किया जाएगा, इसलिए सभी अधिकारी शीघ्र योजनाओं में कार्य प्रारंभ करना सुनिश्चित करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे कार्यदायी संस्थाओं द्वारा किए जा रहे कार्यो का स्वंय निरीक्षण व सत्यापन करेंगे, ताकि कार्य गुणवत्ता के साथ ही समय से पूर्ण हो सके। उन्होंने सांसद व विधायक निधि में प्राप्त धनराशि के कार्यो की समीक्षा करते हुए कहा कि माननीयों से विकास कार्यो के प्रस्ताव के लिए वार्ता कर प्राप्त प्रस्तावों में धनराशि आवंटन करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा राज्य, केंद्र पोषित व वाह्य सहायतित योजनाओं के कार्यो में  भी तेजी लाते हुए पूर्ण करे, ताकि अग्रिम किश्त प्राप्त की जा सके।

यह भी पढ़ें 👉  डीएम से छात्राओं ने कैरियर को लेकर पूछे कई सवाल, काउंसलर ने दी कानूनी जानकारी, सफलता के टिप्स भी बताए

जिलाधिकारी ने कहा कि सभी टॉस्क फोर्स अधिकारी अपने क्षेत्रों में जाकर विकास कार्यो का सत्यापन करना सुनिश्चित करें तथा आंख्या जिला कार्यालय अथवा मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें, जो अधिकारी कार्यो में लापरवाही करेंगे उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवार्इ की जाएगी। उन्होंने आपदा कार्यो, मुख्यमंत्री घोषणाओं में त्वरित गति लाते हुए पूर्ण करने के निर्देश भी दिए।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी ने बताया कि जिला योजना में स्वीकृत परिव्यय 5519.19 लाख के सापेक्ष विभागों को 5361.03 लाख अवमुक्त किया गया है, जिसके साापेक्ष विभागों द्वारा 1610.14 लाख व्यय किया गया है, जो 30 प्रतिशत है। जबकि राज्य योजना में 61.60, केंद्र पोषित में 93.24 तथा वाह्य सहायतित में 95.40 प्रतिशत व्यय किया गया। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभिन्न योजनाओं में प्राप्त धनराशि के कार्यो में प्रगति लाकर व्यय करना सुनिश्चित करे।

यह भी पढ़ें 👉  सीडीओ को बंधक बनाने के मामले में 18 आरोपियों को सजा, 2018 का था मामला

बैठक में परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, जिला विकास अधिकारी संगीता आर्या, प्रभागीय वनाधिकारी उमेश तिवारी, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ डीपी जोशी, मुख्य शिक्षा अधिकारी जीएस सौन, पुलिस उपाधीक्षक एसएस राणा, अधि.अभि. जल निगम वीके रवि, सिंचाई केके जोशी, लघु सिंचाई विमल कुमार सुंठा, विद्युत मोहम्मद अफजाल, पीएमजीएसवाई वृजेंद्र कुमार, ग्रामीण निर्माण विभाग संजय भारती, वैबकॉस बिशन लाल, मुख्य कृषि अधिकारी डॉ गीतांजलि बंगारी, समाज कल्याण अधिकारी हेम तिवारी, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत राजेश कुमार, युवा कल्याण अधिकारी अर्जुन सिंह रावत, पर्यटन अधिकारी पीके गौतम समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad