अधूरी पेयजल योजनाओं को मार्च तक करें पूर्ण: सचिव, विभागवार की विकास कार्यों की समीक्षा

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। सचिव भाषा विभाग उत्तराखंड शासन विनोद रतूड़ी ने सोमवार को सशक्त उत्तराखंड की अवधारणा को विकास कार्यों की समीक्षा की। पांच दिवसीय जिला भ्रमण पर पहुंचे सचिव ने पहले दिन जिला मुख्यालय सभागार में विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

    जल निगम की समीक्षा करते हुए सचिव ने राज्य सेक्टर के अंर्तगत अधूरी पड़ी तीन पम्पिंग योजनाओं को मार्च तक पूर्ण करने के निर्देश अधिशासी अभियंता को दिए। साथ ही बरसात में पम्पिंग योजनाओं के चौक होने पर वैकल्पिक प्लान बनाने को कहा। पलायन योजना की समीक्षा करते हुए सचिव ने पॉली हाऊस की वस्तुस्थिति की जानकारी लेते हुए अब तक लाभान्वित लाभार्थियों का फीड बैक मुख्य उद्यान अधिकारी से लिया। साथ ही कीवी,मशरूम उत्पादन से लाभान्वित काश्तकारों की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। सचिव ने केंद्र पोषित एवं जिला योजना में 70 प्रतिशत से कम व्यय करने वाले विभागों की समीक्षा करते हुए आवंटित धनराशि को शीघ्र व्यय करने के निर्देश दिए। किसानों की खेती को बचाने एवं आबादी क्षेत्र में बंदरों से निजात पाने के लिए बंदरो को भगाने के लिए बंदर विकर्षक स्थापित करने के लिए आगामी जिला योजना में शामिल करने के निर्देश सीडीओ को दिए। सचिव ने डेयरी विभाग की समीक्षा करते हुए दुग्ध उत्पादन की जानकारी ली। पशुपालन के क्षेत्र में राज्य स्थापना तक एवं उसके बाद राज्य में कितनी गाय,भैंस की संख्या बढ़ी है आंकड़ा उपलब्ध कराने के निर्देश सीवीओ को दिए। सचिव ने समाज कल्याण विभाग के अटल आवास योजना की समीक्षा की। लघु डाल की लंबित पांच योजनाओं को माह फरवरी तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। कृषि विभाग की समीक्षा करते हुए सचिव ने आवंटित धनराशि को शीघ्र खर्च करने के निर्देश दिए। तथा किसानों  व बागवानों के प्रति अधिकारियों की सहानुभूति रखने को कहा। उन्होंने टीवी उन्मूलन,एनीमिया औऱ टेलीमेडिसिन को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वरा जिले में किए जा रहे प्रयासों के बारे में भी जानकारी ली। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की समीक्षा करते हुए टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश सीएमओ को दिए। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा करते हुए कार्यों में तेजी लाते हुए डामरीकरण समय से पूरा करने के निर्देश दिए।

तीस सूत्रीय कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए सचिव ने इको टूरिज्म, सरकारी सम्पतियों पर अवैध कब्जे हटाने और पर्यटन नीति की समीक्षा की। पैराग्लाइडिंग को लेकर जिले में बढ़ावा देने के निर्देश जिला पर्यटन विकास अधिकारी को दिए। सचिव ने डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन की वस्तुस्थिति के बारे में जानकारी लेते हुए कूड़ा सेगरीकेशन को लेकर भी तेजी से कार्य करने के निर्देश ईओ को दिए।

मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी ने सचिव को जनपद में संचालित विभिन्न विकास कार्यों एवं नवाचारी कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी और उनके मार्ग निर्देशन के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि बैठक में दिए गए निर्देशों को पूरी तरह से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर: प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में सस्ता हुआ इलाज, सीएम की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में लगी मोहर

बैठक में परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, जिला विकास संगीता आर्या, मुख्य शिक्षा अधिकारी जीएस सौन, उद्यान अधिकारी आरके सिंह, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ देवेश चौहान, कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास अनुलेखा बिष्ट, पूर्ति अधिकारी मनोज कुमार बर्मन, ईई लोनिवि डीएस कुटियाल, जल संस्थान सीएस देवड़ी, जल निगम वीके रवि, पर्यटन अधिकारी पीके गौतम, इओ हयात सिंह परिहार,समाज कल्याण अधिकारी हेम तिवारी, सीवीओ डॉ कमल पंत,अर्थ एवं संख्याधिकारी दिनेश रावत समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में भी कांवड़ यात्रा रूट में ठेली और दुकानों पर लगानी होगी नेम प्लेट: सीएम धामी