मानसून काल में आपदा प्रबंधन को लेकर विधायक, डीएम ने ली अधिकारियों की बैठक, बदहाल सड़कों को दुरूस्त करने के दिए निर्देश

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। विधायक सुरेश गढ़िया और जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने सोमवार को तहसील सभागार कपकोट में विभागों द्वारा आपदा पूर्व की गई तैयारियों के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक की।

विधायक ने कहा कि आपदा के दौरान क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत समय से करें तथा बंद सड़कों को खोलना सुनिश्चित करें। उन्होंने लोनिवि, पीएमजीएसवाई सहित सडक महकमे के अधिकारियो को सड़क सुरक्षा के तहत बंद कलमठों को खोलने, नालियों की सफाई और सुरक्षा दीवार मरम्मत कार्य करने व प्रगति की सूचना फोटोग्राफ सहित व्हाट्सएप पर उपलब्ध कराने को कहा। उन्होंने कहा कि विद्युत विभाग आपदा के दृष्टिगत पर्याप्त मात्रा में अतिरिक्त ट्रांसफार्मर रखे, सड़कों के किनारे जर्जन पालों व खराब ट्रांसफार्मरों को बदलना सुनिश्चित करें। पेयजल विभाग क्षतिग्रस्त पेयजल लाईनों की मरम्मत कर सुचारू पेयजल उपलब्ध कराये, नहरों की मरम्मत करें। उन्होंने निर्माण संस्थाओं को निर्देश दिये कि ठेकेदार समय से गुणवत्तापूर्ण मानकों के अनुसार कार्य करे, इसका विशेष ध्यान रखा जाय। उन्होंने सिंचाई एवं लघु सिंचाई विभाग को क्षतिग्रस्त गूलों का मरम्मत कार्य समय से करने के निर्देश देते हुए दीर्घकालन  योजना बनाने को कहा।

विधायक ने कहा कि कपकोट क्षेत्र आपदा की दृष्टि से अतिसंवेदनशील है, लिहाजा प्रत्येक विभाग आपदा के समय आपसी समन्वय के साथ कार्य करते हुए कम से कम रिस्पॉंस समय में प्रभावितों तक राहत पहुॅचाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिये बनाये गये रोड़ मैप के अनुसार सड़क, विद्युत, पेयजल के साथ ही स्वास्थ्य व शिक्षा क्षेत्र में अधिक तेजी लानी होगी।

यह भी पढ़ें 👉  नंदन अलमियां को अध्यक्ष, दीपक पाठक को चुना गया प्रबंधक

जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने आपदा को देखते हुए सभी अफसरों से अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए। दैवीय आपदा की संभावित घटनाओं को देखते हुए सभी तैयारी कर लें। उन्होंने कहा आपदा से निपटने के लिए हमें सड़क मार्गो सहित सभी व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखना होगा। अधिशासी अभियंता प्रत्येक सडक मार्गो के लिए नोडल अधिकारी तैनात करना सुनिश्ति करेंगे, साथ ही पुलिस विभाग को आपदा उपकरणों का वेरीफाई कर लेने के निर्देश दिए। स्वास्थ विभाग को एंबुलेंस सहित अन्य सभी आवश्यक व्यवस्थायें दुरूस्त रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा आपदा दौरान रिस्पांस समय कम से कम हो इसका विशेष ध्यान दिया जाए। जिलाधिकारी ने कहा आपदा से निपटने के लिए सभी विभागों को आपसी समन्य से कार्य करना होगा।

यह भी पढ़ें 👉  सीएम धामी ने किया जागेश्वर के प्रसिद्ध श्रावणी मेले का शुभारंभ, एक महीने तक चलेगा मेला

बैठक मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी, उपजिलाधिकारी मोनिका, पुलिस उपाधीक्षक एसएस राणा, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ आर चन्द्रा, मुख्य शिक्षा अधिकारी जीएस सौन, जिला पूर्ति अधिकारी मनोज बर्मन, ईई लोनिवि राजकुमार, सिचाई केके जोशी, जल संस्थान सीएस देवडी, जल निगम वीके रवि, विद्युत मोहम्मद अफजाल, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ हरीश पोखरिया, समाज कल्याण अधिकारी हेम तिवारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी अनुलेखा बिष्ट,जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी शिखा सुयाल समेत अनेक अधिकारी मौजूद रहे।