ड्रग्स फ्री हेल्दी लाइफ के नारे लगाते हुए दौड़े लोग, अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस पर हुई सद्भावना दौड़

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। विश्व ओलंपिक दिवस के अवसर पर उत्तराखंड ओलंपिक एसोसिएशन, जिला प्रशासन व खेल विभाग के तत्वाधान में रन फॉर ओलंपिक (सद्भावना दौड़) का आयोजन किया गया। रविवार को रन फॉर ओलंपिक में बड़ी संख्या में खिलाड़ियों, नागरिकों, अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया। दौड़ के माध्यम से ड्रग्स  फ्री हेल्दी लाइफ जैसे नारे लगाकर युवाओं को नशे से दूर रहने को प्रेरित किया गया।

  सद्भावना दौड़ का शुभारंभ विधायक सुरेश गढ़िया, डीएम अनुराधा पाल और उत्तराखंड ओलंपिक संघ के अध्यक्ष निर्मान मुखर्जी ने हरी झंडी दिखाकर किया, जो नुमाइशखेत से प्रारंभ होकर गोमती पुल, एसबीआई तिराहा, सरयू पुल, पिंडारी रोड होते हुए खेल विभाग के इंडोर स्टेडियम में संपन्न हुई।

खेल विभाग के इंडोर स्टेडियम में हुए मुख्य कार्यक्रम में खिलाड़ियों को वर्चुअल संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सभी को ओलंपिक दिवस की बधाई दी।  उन्होंने कहा की प्रदेश सरकार खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। भविष्य में उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों का आयोजन होगा।  सभी खिलाड़ियों से खेलों में बढ़-चढ़ कर भाग लेने का आह्वान किया। उन्होंने कहा जिस प्रकार से बागेश्वर की भूमि से कुली बेगार प्रथा का अंत हुआ, ठीक उसी प्रकार से रन फॉर ओलंपिक (सद्भावना दौड) भी देवभूमि के युवाओं को नशे से दूर रहने का बडा संदेश देगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार खेलों को बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।  खिलाड़ियों को समय-समय पर प्रशिक्षण व प्रोत्साहन दिया जा रहा है। खेल अवस्थापना विकास के कार्य तेज गति से किए जा रहे है। उन्होंने कहा सभी को मिलकर वर्ष 2025 तक ड्रग्स फ्री उत्तराखंड बनाना है, तथा आज का यह दिन इसके लिए संकल्प लेने का भी है। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में ग्लोबल वार्मिंग का जिक्र करते हुए विभिन्न सामाजिक संगठनों से जल संरक्षण व जल संवर्धन के लिए आगे आने का भी आह्वान  किया।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग: बागेश्वर से हल्द्वानी जा रही केमू बस पलटी,06 घायल

    विधायक सुरेश गड़िया ने कहा कि खेल एक ऐसा माध्यम है, जिसके जरिए हम स्वस्थ मन के साथ ही स्वस्थ तन को प्राप्त कर सकते हैं। हमें खेल जहां जीवन में अनुशासन सिखाते है, वहीं खेलों से टीम भावना और नेतृत्व क्षमता का विकास होता है।

    जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने कहा कि खेलों से खेल भावना के साथ ही आपसी सामंजस्य बढ़ता है।  खेलों से तन-मन तो स्वस्थ रहता ही है, साथ देश के लिए योग्य नेतृत्वकर्ता, समन्वयकर्ता, उत्साही  और लक्ष्य के प्रति समर्पित स्वस्थ नागरिक भी प्राप्त होते हैं। जिलाधिकारी ने कहा खेल ही एक ऐसा माध्यम है,जो नशे की प्रवृत्ति के साथ-साथ नकारात्मक सोच को दूर करता है तथा शारीरिक व मानसिक रूप से सक्रिय रहने में महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग: कांवड़ यात्रा 'नेमप्लेट' पर सुप्रीम रोक,यूपी,एमपी, उत्तराखंड सरकार को नोटिस

      ओलंपिक संघ के सचिव डॉ डीके सिंह ने सभी अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन किया। कार्यक्रम का संचालन हेमंत बिष्ट द्वारा किया गया।  इस दौरान विभिन्न  खेलों के विजेता खिलाड़ियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

    कार्यक्रम में पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण, उप जिलाधिकारी कपकोट अनुराग आर्य, जिलाध्यक्ष भाजपा इंद्र सिंह फर्स्वाण, जिलाध्यक्ष कांग्रेस भगवत सिंह डसीला,चेयरमैन रेडक्रॉस सोसाइटी संजय साह जगाती, जिला सचिव आलोक पांडेय, अनिल कार्की, गीता रावल, , कुंदन कालाकोटी, गणेश धपोला,  बबलू नेगी, महिपाल गाड़िया, प्रमोद मेहता, कौशल किशोर सिंह, राजेन्द्र पूना, ललित नेगी, दरवान सिंह, इंद्र सिंह गड़िया, दीपक खेतवाल, अजय चंदोला, अनिल कार्की, दीप जोशी, कमलेश तिवारी, किशन सिंह मलड़ा, दलीप खेतवाल, नरेंद्र खेतवाल समेत विभिन्न खेल संघ के पदाधिकारी, खिलाड़ी व अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।