आक्रोशित बेरोजगारों को शांत करने की कवायद में जुटी सरकार, आगामी परीक्षाओं में मुफ्त यात्रा का तोहफा

ख़बर शेयर करें -

देहरादून: उत्तराखंड में अब छात्रों के आक्रोश को शांत करने की कवायद शुरू कर दी गई है। पिछले दिनों भर्ती परीक्षाओं में धांधली के मामलों को लेकर छात्रों का प्रदेश भर में बड़ा प्रदर्शन हुआ। कांग्रेस ने युवाओं के प्रदर्शन में अपनी राजनीति को चमकाने का प्रयास किया। लेकिन, पुष्कर सिंह धामी सरकार ने युवाओं के आक्रोश को शांत करने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। पहले छात्रों की मांग के आधार पर कड़ा नकल विरोधी कानून को पास कर दिया गया। राज्यपाल के अनुमोदन के बाद नकल विरोधी कानून प्रदेश में लागू हो चुका है। इसके बाद भर्ती परीक्षाओं की धांधली की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर सीएम धामी का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि वे सीबीआई जांच को तैयार हैं। अब उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की परीक्षा के केंद्रों तक जाने के लिए परीक्षार्थियों को मुफ्त यात्रा की सुविधा देने का फैसला लिया गया है।उत्तराखंड सरकार के सचिव अरविंद सिंह ह्यांकी की ओर से सरकार के फैसले से उत्तराखंड परिवहन निगम के सचिव को जानकारी दे दी गई है। उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की ओर से सम्मिलित राज्य सिवल एवं प्रवर अधीनस्थ सेवा मुख्य परीक्षा 2021 का आयोजन 23 फरवरी से 26 फरवरी तक होना है। इस परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों को उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों के किराए में शत-प्रतिशत छूट देने का निर्णय सरकार की ओर से हुआ है।



सचिव की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि 23 से 26 फरवरी तक परीक्षाओं में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों को मुफ्त यात्रा सुविधा मिलेगी। परिवहन निगम के एमडी को इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। आदेश में कहा गया है कि परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड के आधार पर मुफ्त यात्रा की सुविधा मिलेगी। परीक्षार्थी के गृह स्थान से परीक्षा केंद्र तक की यात्रा सुविधा फ्री रहेगी। सरकार की ओर से इस खर्च का वहन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में भी कांवड़ यात्रा रूट में ठेली और दुकानों पर लगानी होगी नेम प्लेट: सीएम धामी