मरीज को रेफर करने का बताना होगा स्पष्ट कारण: डॉ. रावत, स्वास्थ्य मंत्री ने मरीज को आपात स्थिति में एयर एंबुलेंस का लाभ देने के दिए निर्देश

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। शुक्रवार की शाम को कौसानी पहुंचे कैबिनेट मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने  224.49 लाख  के चार लोक कार्यों का लोकार्पण किया। उन्होंने विभिन्न विभागों की समीक्षा के दौरान शिक्षा एवं स्वास्थ्य तथा उच्च शिक्षा विभाग से शीघ्र अपनी विभिन्न कार्य योजनाओं की मांग को जिलाधिकारी के माध्यम से शासन को भेजने के निर्देश दिए।

  स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ देवेश चौहान ने जनपद की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी दी। इस दौरान कैबिनेट मंत्री रावत ने कहा कि जनपद में शीघ्र ही विशेषज्ञ चिकित्सक की नियुक्ति के साथ ही, बॉन्डधारी चिकित्सको की नियुक्ति आवश्यकतानुसार की जाएगी। उन्होंने जनपद में सीएचओ  एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों पर शीघ्र नियुक्ति की कार्रवाई के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि जनपद में आयुष्मान कार्ड का लाभ प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए जन प्रतिनिधि व विभिन्न विभाग आपस में मिलकर प्रत्येक व्यक्ति का आयुष्मान कार्ड बनवाएं, उन्होंने सख्त निर्देश दिए कि किसी भी मरीज को बिना कारण के रेफर न किया जाए, रेफर की स्थिति में रेफर करने की वजह स्पष्ट रूप से लिखी जाए, साथ ही गंभीर आपात स्थिति में मरीज को एयर एंबुलेंस का भी लाभ प्रदान किया जाए।  उन्होंने समस्त गर्भवती महिलाओं के संस्थागत प्रसव करवाने के आदेश दिए।  उन्होंने कहा कि मोतियाबिंद मुफ्त ऑपरेशन कराने की सरकार की योजना है, इस संबंध में व्यापक प्रचार प्रसार करके लोगों को इसका लाभ दिलाएं।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर: प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में सस्ता हुआ इलाज, सीएम की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में लगी मोहर

शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान उन्होंने मुख्य शिक्षा अधिकारी गजेंद्र सिंह सोन को आदेश दिए कि वो शीघ्र प्राथमिक अध्यापकों की नियुक्ति प्रारंभ करने की प्रक्रिया शुरू करें। जनपद में राजीव गांधी नवोदय विद्यालय के निर्माण की प्रगति की जानकारी लेते हुए, डीपीआर शीघ्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिए, ताकि धन आबंटित किया जा सके। उन्होंने उच्च की समीक्षा करते हुए कहा कि जिन महाविद्यालयों में संसाधनों की आवश्यकता है, उसके प्रस्ताव शासन को भेजे जाएं।

खाद्य सुरक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि खाद्य सामग्री में मिलावटखोरों के खिलाफ नियमित चेकिंग अभियान चलाते हुए आवश्यक  कार्रवाई के निर्देश दिए। सहकारिता विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर दिए जाने वाले ऋण की जानकारी लेते हुए कहा कि इसमें अधिक से अधिक किसानों को लाभ प्रदान किया जाए। इसमें मत्स्य ,उद्यान, पशुपालन, एवं कृषि विभाग की योजनाओं को सहकारिता के माध्यम से किसानों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने कैबिनेट मंत्री को आश्वस्त करते हुए कहा कि उनके द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुरूप संबंधित विभागों के साथ बैठक कर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  इंटरमीडिएट के छात्र को गुलदार ने बनाया निवाला, देर रात मिला क्षत विक्षत शव

कैबिनेट मंत्री ने राजकीय इंटर कॉलेज सानीउड़ियार के मुख्य भवन का सुदृढ़ीकरण एवं चाहरदीवारी का निर्माण 43.39 लाख , राजकीय इंटर कॉलेज काफलीगैर में भौतिक, रसायन एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण कार्य 61.50 लाख, राजकीय इंटर कॉलेज बदियाकोट में भौतिक, रसायन एवं जीव विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण कार्य 60.92 लाख व राजकीय इंटर कॉलेज लीती में आर्ट क्राफ्ट रूम, विज्ञान प्रयोगशाला एवं पुस्तकालय का निर्माण कार्य 58.68 लाख का लोकार्पण किया।

बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव, ब्लॉक प्रमुख हेमा बिष्ट, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दीपा आर्या, जिलाध्यक्ष भाजपा इंद्र सिंह फर्स्वाण, जिला पंचायत सदस्य जनार्जन लोहनी, नवीन नमन, सुनील दोसाद,मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ अनुपमा ह्यांकी, डॉ देवेश चौहान, डॉ हरीश पोखरिया, सीएमएस डॉ वीके टम्टा सहित अन्य अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे।