कांडा और रीमा क्षेत्र में दिया जाएगा कीवी उत्पादन को बढ़ावा: गढ़िया, लीती में हुआ कीवी महोत्सव का आयोजन

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडेक्ट के तहत कपकोट के लीती में कीवी महोत्सव एवं किसान गोष्ठी का आयोजित हुआ।  गोष्ठी में किसानों को कीवी की रोपाई कटाई, छटाई और घेरबाड की विस्तृत जानकारी दी गई। उन्हें कीवी से बनने वाले जूस, चटनी, जैली, केंडी आदि बनने वाले उत्पादों के महत्व को बताकर बंजर खेतों में सामूहिक कीवी की खेती कर आजीविका में वृद्वि करने के लिए किसानों को प्रेरित किया गया।

गोष्ठी को संबोधित करते हुए विधायक सुरेश गडिया ने कहा कि सरकार के प्रयासों से 80 प्रतिशत सब्सिडी योजना के तहत एक जनपद एक फल योजनान्तर्गत कीवी जनपद में चिन्हित है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में लोगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कांडा व रीमा क्षेत्र में भी कीवी उत्पादन को बढावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा सरकार ने स्वरोजगार के लिए अनेक योजनाएं संचालित की है। उन्होंने अधिक से अधिक लोगों से होम स्टे के साथ ही अन्य स्वरोजगारपरक योजनाओं की ओर बढते हुए आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा सरकार सभी समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता से कर रही है, इसलिए जागरूक होकर योजनाओं का लाभ उठायें। उन्होंने कहा जनपद को कीवी उत्पादन से एक नई पहचान मिली है। सरकार जनता के द्वार जाकर समस्याओं का निराकरण कर रही है। काश्तकार कीवी उत्पादन के साथ ही अन्य स्वरोजगारपरक योजनाओं में रूचि लेकर क्षेत्र के विकास में सहभागी बने। 

यह भी पढ़ें 👉  वनाग्नि की चपेट में आकर युवक की मौत

जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने कहा कि वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडेक्ट के तहत कीवी उत्पादन जनपद को एक नई पहचान दे रहा है, इस क्षेत्र में काफी संभावनाएं है। किसानों की आय बढाने का यह एक अच्छा माध्यम है। उन्होंने बल्क मात्रा में कीवी उत्पादन को बढावा देने की बात करते हुए कहा कि किसान कीवी उत्पादन से अच्छी आय अर्जित कर सकते है, तथा आढती यही से कीवी खरीद सके इस पर हम सभी को प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा में कीवी के उत्पादों की अच्छी डिमांड आयी थी, इससे किसान काफी उत्साहित है। उन्होंने कहा कि आगे भी इसे कलस्टर के रूप में किस तरह से बढाया जाय व अधिक से अधिक किसानों को जोडते हुए उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में कार्य किया जाएगा। बताया कि किसानों को कीवी उत्पादन में 80 प्रतिशत, सेव में 60, मशरूम 80 प्रतिशत के साथ ही 50 प्रतिशत के अनुदान पर सभी प्रकार के बीज एवं दवा व 80 प्रतिशत अनुदान पर पॉवर विडर ट्रिलर उपलब्ध कराये जाते है।

जिला उद्यान अधिकारी आरके सिंह ने बताया कि क्षेत्र में कलस्टर के रूप में कीवी की खेती को बढावा देने के साथ ही किसानों को प्रेरित किया जा रहा है।  क्षेत्र में 80 किसान कीवी उत्पादन कर रहे है। जिनकी कीवी 200 से 250 प्रति किलो तक बिक रही है। इस दौरान रीप योजना के लाभार्थियों को सहायता चेक वितरित किए गए।

यह भी पढ़ें 👉  जख्मी हालत में मिला गुलदार, वन विभाग ने किया रेस्क्यू (वीडियो)

  ब्लॉक प्रमुख गोविंद सिंह दानू ने सभी से समेकित व जैविक खेती करने का आह्वान करते हुए गोष्ठी के लिए विभाग व जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया। कहा कि इस प्रकार की गोष्ठी किसानों के लिए लाभकारी सिद्ध होगी। उन्होंने कहा कि सरकार का उद्देश्य स्थानीय लोगों को उन्हीं के क्षेत्र में स्वरोजगार देते हुए आत्मनिर्भर बनाना है, इसलिए योजनाओं का लाभ किसान अवश्य उठायें।

पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राम सिंह कोरंगा ने क्षेत्र के काश्तारों को कीवी एवं सब्जी उत्पादन के लिए प्रेरित करने के लिए विभाग एवं जिला प्रशासन का आभार व्यक्त करते हुए सब्सिडी व ऐगिंल समय से उपलबध कराने की मांग करते हुए काश्तकारों को उच्च कोटी का प्रशिक्षण भी दिलाने का अनुरोध किया।

कार्यक्रम में ग्राम प्रधान चामू सिंह कोरंगा, सहायक उद्यान अधिकारी कुलदीप जोशी, विधायक प्रतिनिधि योगेश हरडिया, काश्तकार भवान सिंह, हरीश सिंह, पान सिंह, खीम सिंह, धना कोरंगा, राधा कोरंगा सहित महिला समूह के सदस्य व अन्य काश्तकार मौजूद रहे।