पेयजल संकट वाले क्षेत्रों में वैकल्पिक व्यवस्था कर नियमित जलापूर्ति करने के निर्देश, डीएम ने ली जल महकमे के अधिकारियों की बैठक

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने जिला मुख्यालय समेत कौसानी, गरूड़ के नजदीकी गांव अन्य कस्बों में पानी की किल्लत को गंभीर से लिया है। गुरुवार को जिलाधिकारी ने जल संस्थान एवं जल निगम के अधिकारियों की बैठक लेते हुए मंडलसेरा समेत कस्बों और पेयजल किल्लत वाले क्षेत्रों में वैकल्पिक व्यवस्था से नियमित आपूर्ति करने और ग्रामीणों की पानी की समस्याओं को लेकर आ रही शिकायतों पर भी तत्काल संज्ञान लेकर समाधान करने के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी पाल ने कहा कि मंडलसेरा में पंपिंग योजना का कार्य भी जल्द पूरा किया जाय, ताकि वहां के लोगों को इसका लाभ मिल सकें। उन्होंने कहा कि जिन गांव में जल स्रोत सुख गए है या पानी कम हुआ है उन्हें चिन्हित करते हुए वहां दीर्घकालिक योजना प्रस्तावित की जाए। उन्होंने कहा कि गर्मी बढ़ने से पानी की खपत बढ़ जाती है। इसलिए जिन कस्बों,गांव में पानी की समस्याएं उजागर हुई है वहां टेंकर या अन्य वैकल्पिक व्यवस्था से पानी की आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। अधिशासी अभियंता जल संस्थान द्वारा अवगत कराया गया कि मंडलसेरा में दो टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है। कौसानी में किसानों द्वारा पेयजल स्रोत से सिंचाई के लिए पानी का उपयोग किया जा रहा है, लेकिन आपूर्ति पर्याप्त है।  बैठक में जल महकमे के अधिकारियों समेत आपदा प्रबंधन अधिकारी शिखा सुयाल भी मौजूद रहीं।

यह भी पढ़ें 👉  चंपावत में आयोजित हुआ एनयूजे का प्रदेश स्तरीय ‘मीडिया संवाद’, पत्रकारों के हित से जुड़े मामलों पर हुई चर्चा