बदहाल सड़कें सिस्टम बीमार, मलबे में तीन घंटे फंसी रही कार

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। मानसून सीजन की शुरूआत में ही जिले में प्रशासन की मानसून पूर्व तैयारियों की पोल खुलने लगी है। सड़कें जगह-जगह बदहाल हैं। भूस्खलन और मलबा गिरने से यातायात लगातार बाधित हो रहा है, लेकिन सड़कों को समय पर खोलने के पुख्ता इंतजाम अब तक नहीं है। जिसका खामियाजा यात्रियों और वाहन चालकों को भुगतना पड़ रहा है।

ऐसा ही एक मामला शनिवार की शाम बागेश्वर-कपकोट मोटर मार्ग पर देखने को मिला। हरसीला के समीप लगातार हो रहे भूस्खलन के बावजूद प्रशासन की जेसीबी मौजूद नहीं थी। जिसके कारण करीब 3 घंटे तक एक कार मलबे में फंसी रही। कार के फंसने से सड़क जाम हो गई और दोनों छोर पर वाहनों की लंबी कतार लग गई।

बता दें कि हरसीला से सीमा गांव के लिए सड़क का कटान किया जा रहा है। सड़क कटान के समय विभाग ने किसी तरह की पूर्व तैयारी नहीं की। सड़क काट तो दी लेकिन बरसात के दौरान मुख्य सड़क पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इसके बारे में सोचने तक की जहमत नहीं उठाई। जिसका खामियाजा लोगों को भोगना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  संवेदनशील मार्गों पर जेसीबी मशीन और ऑपरेटर तैनात करने के निर्देश

शनिवार की शाम अचानक भूस्खलन हुआ और कपकोट-बागेश्वर सड़क पर मलबा भर गया। सड़क खोलने की जिम्मेदारी वर्तमान में बीआरओ के पास है, लेकिन बीआरओ की जेसीबी मशीन मौके पर मौजूद नहीं थी। लिहाजा लोक निर्माण विभाग की जेसीबी मशीन सड़क खोलने के लिए बुलाई गई, लेकिन उसे भी वहां पहुंचते-पहुंचते 3 घंटे लग गए। इस दौरान वाहनों में बैठे छोटे-छोटे बच्चे काफी परेशान हो गए। वहीं वाहन चालक और स्थानीय लोगों ने मलबे में फंसी कार को निकालने का प्रयास किया। जिसमें सामाजिक कार्यकर्ता रवि देव कपकोट के नगर पंचायत के सभासद तनुज तिरूवा सहित तमाम वाहन चालक और स्थानीय लोग जुटे रहे। करीब 7:45 बजे जेसीबी मशीन वहां पहुंची और सड़क से मलबा हटाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  प्रदेश में फिर करवट बदलेगा मौसम, इन जिलों में होगी बारिश

खतरा अब भी बरकरार

जेसीबी मशीन से मलबा हटाकर वहां फंसी कार सहित अन्य वाहनों को निकालने का प्रयास चल रहा चल रहा था कि अचानक एक वाहन के ऊपर मलबा गिर गया। वाहन में सवार लोग बाल-बाल बच गए, लेकिन सड़क पर जाम हो गई वहीं जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी शिकार का कहना है कि बीआरओ की जेसीबी खराब होने के चलते दिक्कत आई थी। लोनिवि की मशीन मौके पर है और सड़क को खोलने का काम चल रहा है।