बेटियों को बराबरी का हक दिलाने के लिए अंजू लगा रही दो हजार किमी की दौड़, बागेश्वर पहुंचने पर हुआ भव्य स्वागत

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर। बेटियों को बराबर का हक दिलाने के लक्ष्य से गत 17 मार्च से किच्छा से उत्तराखंड की सडकों पर दौड रही पांव से दिव्यांग अंजू राठौर के बागेश्वर पहुंचने पर जिलाधिकारी अनुराधा पाल और रेडक्रास सोसायटी ने उनका भव्य स्वागत किया और जिला कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित किया। बेटी बचाओ-बेटी पढाओ के संदेश को आगे बढाते हुए अंजू राठौर 17 मार्च को उधसिंहनगर के किच्छा से दौड शुरू करते हुए नैनीताल, अल्मोडा, चम्पावत, पिथौरागढ होते हुए मंगलवार को बागेश्वर पहुंची, यहां से वह चमोली के लिए दौडेगी।

जिलाधिकारी पाल ने कहा अंजू नारी शक्ति की जीती जागती मिसाल है। उन्होंने उनके प्रयासों की सराहना करते हुए उन्हें आगे बढने के लिए प्रोत्साहित किया। बता दे कि अंजू राठौर ने 2000 किलोमीटर दौडने का लक्ष्य रखा है, अभी तक वह 5 जिलों को दौडकर पार कर चुकी है। अंजू का  मैराथन दौड में भाग लेने का लक्ष्य है, इसके लिए उन्होंने 2021 में इंदौर में कोचिंग भी ली। इस दौड के दौरान अंजू राठौर को लोंगो द्वारा काफी प्रोत्साहित किया जा रहा है।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष भाजपा इन्द्र सिंह फर्स्वाण, महासचिव संजय परिहार, चेयरमैन रेडक्रास संजय शाह जगाती, जिला सचिव आलोक पांडे, वृक्ष पुरुष किशन सिंह मलडा, जगदीश उपाध्याय, दीपक पाठक आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में जंगलों की आग पर सुप्रीम कोर्ट का सख्त रुख, मुख्य सचिव तलब, फंड और लापरवाही पर घेरा